Ajwain Ki Kheti : अजवाइन की खेती कैसे करें जानिए

अजवाइन का इस्तेमाल दुनियाभर में मसालों के रूप में किया जाता हैं भारतीय घरों में आमतौर पर अजवाइन का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है।  इसकी खेती कर किसान अच्छी आय अर्जित कर सकते हैं

अजवाइन के औषधीय गुण

औषधीय गुणों से भरपूर अजवायन कई समस्याओं में उपयोगी है।  यह अपच, कफ, ऐंठन सहित कई रोगों में कारगर है।

अजवाइन की खेती के लिए जलवायु

इसकी खेती के लिए ठंडी और शुष्क जलवायु सबसे अच्छी मानी जाती है। अत्यधिक सर्दी इसकी फसल को नुकसान पहुंचा सकती है

अजवाइन की बुवाई के लिए खेत कैसे तैयार करें 

अजवाइन की अच्छी पैदावार के लिए खेत की ठीक से जुताई करना बहुत जरूरी है।  सबसे पहले मिट्टी को पलटने वाले हल से मिट्टी की अच्छी तरह जुताई करें

अजवाइन बुवाई कतारों में की जाती है।  लाइन से लाइन की दूरी 45Cm. और पौधे से पौधे की दूरी 15Cm. से 20Cm.होनी चाहिए।

अजवाइन की बुआई केसे करे

स्प्रे विधि में पहले क्यारी बनाकर बीज डालें, उसके बाद हाथों से बीज को मिट्टी में मिला दें।  आपको बता दें कि अजवाइन की अच्छी पैदावार के लिए इसे तोड़कर बोना चाहिए।

बुवाई के समय पहली सिंचाई करें, लेकिन ध्यान रहे कि यह सिंचाई हल्की हो ताकि बीज बहे नहीं और एक जगह इकट्ठा हो जाएं।

सिंचाई  

अजवाइन की अच्छी उपज के लिए मौसम और मिट्टी के आधार पर 15 से 25 दिनों के अंतराल पर सिंचाई की जा सकती है अच्छी उपज के लिए अजवाइन की फसल में 4 से 5 सिंचाई करनी चाहिए

सिंचाई  

बुवाई से 2 से 3 सप्ताह पहले 10 से 15 टन गोबर प्रति हेक्टेयर खेत में डालना चाहिए। इसके अलावा 40 किलो नाइट्रोजन प्रति हेक्टेयर, 20 किलो फास्फोरस बुवाई से पहले डालें

खाद / उर्वरक 

Kisanguide.com

पूरी प्रकिया जानने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें | 

Kisanguide.com