You are currently viewing गर्मियों में उगाई जाने वाली फ़सल
summer farming crops

गर्मियों में उगाई जाने वाली फ़सल

गर्मियों में उगाई जाने वाली फ़सल : नमस्कार! किसान भाइयों, गर्मी के मौसम में कई तरह की खेती की जाती है, हर मिट्टी में अलग-अलग तरह की खेती की जाती है, कुछ खेती ऐसी होती है कि हर किसान भाइयों को यह भी नहीं पता होता है कि यह खेती किस मौसम में की जाती है।  आज मैं आपको गर्मियों में की जाने वाली हर खेती के बारे में बताऊंगा कि कौन सी खेती की जाती है और कितनी देर तक की जाती है और साथ ही आपको गर्मी की फसल से जुड़ी सारी जानकारी भी दूंगा।

(1) बाजरी की खेती (millet cultivation)

किसान भाइयों बाजरी की खेती आप जुलाई के अंत तक कर सकते है इसकी अलग अलग किस्म की बिजाई की जाती है और अलग अलग पैदावार प्राप्त की जाती है हर प्रकार की मिट्टी वह पानी के हिसाब से अलग अलग बिजाई की जाति है इसकी अच्छी किस्म की पैदावार में 35 से 40 क्विटल बाजरी प्राप्त की जा सकती है और इनसे कम 20 से 25 क्विटल प्राप्त की जा सकती है इसकी खेती बालू मिट्टी में दोमत मिट्टी में , बरानी भुमी में भी की जा सकती है यह गर्मी में अत्यधिक शीघ्रता से बढ़ने वाली अच्छी फसल है।

(2) मुगफली की खेती (Peanut Farming)

मूंगफली भी एक अच्छी फसल है, इसे मध्य जून से मध्य जुलाई तक बोने से अच्छा उत्पादन मिलता है। इसकी खेती बलुई दोमट मिट्टी में अच्छी होती है, मूंगफली की खेती 115 दिन से 120 दिन तक होती है, इसका उत्पादन 5 से 6 क्विंटल प्रति बीज के आधार पर होता है, मूंगफली की गहरी जुताई करनी चाहिए क्योंकि इसकी जड़ें मूंगफली होती हैं। इसकी खेती में शामिल रोगों पर ध्यान देना होगा, इसके अलावा जल निकासी का भी अच्छा नियंत्रण होना चाहिए, क्योंकि उनकी जड़ों में अतिरिक्त पानी जमा होने से पौधे खराब हो जाते हैं, साथ ही इसके फल भी मिलते हैं। सड़ा हुआ है, जो उत्पादन को प्रभावित करेगा।

( 3) सोयाबीन की खेती (soyabean cultivation)

सोयाबीन की खेती जून से जुलाई के महीने में की जाती है, इसकी खेती 90 से 120 दिनों में तैयार हो जाती है, जब पौधे की पकी फली पीली हो जाती है तो फसल कटाई के लिए तैयार हो जाती है।  खरपतवार की 40 दिनों तक देखभाल करनी पड़ती है, इसकी खेती में अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है।  यह एक अच्छी फसल है जिसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है और साथ ही फसल को अधिक उपजाऊ बनाता है, इसलिए इसे हर 3 से 4 साल में एक बार खेती करनी चाहिए, जिसका फसल पर बहुत प्रभाव पड़ेगा।

( 4 ) धान की खेती (Paddy farming)

किसान भाइयों, भारत में धान की खेती बहुत बड़े पैमाने पर की जा रही है क्योंकि इससे चावल की आपूर्ति होती है, कई राज्यों में इसकी खेती की जाती है, अगर आप भी इसकी खेती करना चाहते हैं, तो आपको कुछ खास बातों का ध्यान रखना होगा। रखना होगा जिसके लिए मजबूत मिट्टी की आवश्यकता होती है, जिस पर पानी रुकता है और उपजाऊ होता है, इसकी खेती करने से पहले हरी खाद तैयार करके मिट्टी में मिला देना चाहिए ताकि धान अच्छा हो।

धान की खेती से पहले नर्सरी तैयार करनी होती है, उसके बाद बारिश शुरू होते ही खेत में बुवाई शुरू कर देनी चाहिए, इसका सही समय जून से जुलाई तक होता है.

धान की खेती में पानी और बीमारियों पर विशेष ध्यान देना चाहिए, इसके अलावा उर्वरकों और बीमारियों का भी ध्यान रखना होता है।

( 5 ) अरहर की खेती (tur cultivation)

अरहर एक दलहनी फसल है, जो जून-जुलाई में गर्मी के दिनों में बोई जाती है, अरहर 130 से 135 दिनों में तैयार हो जाती है, यह अच्छी उपज देती है, आप इस फसल को पहले नर्सरी में तैयार करके भी बो सकते हैं, इसके अलावा आप सीधे कर सकते हैं  इसे खेत में लगाएं।  मैं बो सकता हूँ अरहर की फसल में हमें समय-समय पर सावधानी बरतने की जरूरत होती है, जैसे कि अरहर की खेती में खरपतवार बार को नष्ट करना, यदि आप इसे बोते हैं, तो कितनी गहरी जुताई करें, साथ में कितनी दूरी पर बोना चाहिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है  ऐसा ध्यान देने के लिए। अगर आप भी अरहर की खेती करने की सोच रहे हैं तो आपके लिए पूरी जानकारी होना बेहद जरूरी है और आपको इस लिंक के जरिए अरहर की खेती की पूरी जानकारी विस्तार से मिल जाएगी तो आप इस लिंक पर अरहर की खेती कैसे करते हैं?  पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए सभी जानकारी पर क्लिक करें।

( 6 ) मक्का की खेती (maize farming)

मक्का खरीफ मौसम की फसल है, जिसे आप अपने साधन की सुविधा के अनुसार आगे-पीछे कर सकते हैं, यह फसल मई के अंत में की जा सकती है, जून की शुरुआत में यह फसल लगभग 90 से 115 दिनों की होती है, इसकी उपज एक बीघा में 11 से 11 होता है। 12 क्विंटल हैं, जब इसमें 25 प्रतिशत नमी हो तो मकई को काट लें।

( 7 )  ग्वार की खेती (Guar Cultivation)

किसान भाइयों, ग्वार भी एक अच्छी फसल है, जो हमें बहुत कम लागत में उत्पादन देती है, यह भूमि को उपजाऊ भी बनाती है, जिससे अगली फसल में उत्पादन अन्य फसलों की तुलना में अधिक होता है।

ग्वार की खेती दोमट मिट्टी, रेतीली मिट्टी, रेतीली मिट्टी सभी प्रकार की मिट्टी में की जाती है ग्वार हमेशा ताजे पानी से या बारिश के पानी पर ही करना चाहिए, जिससे फसल अच्छी हो और बीच में बारिश हो तो पानी लगाने की आवश्यकता नहीं है और न्यूनतम स्प्रे की आवश्यकता है

इसकी खेती बरसात के मौसम में अधिक होती है, इसकी खेती का सही समय जून-जुलाई का महीना है, यह लगभग 90 से 100 दिनों की फसल है, जो कि सबसे कम अवधि की फसल है, इसकी औसत उपज 3 से 6 क्विंटल प्रति क्विंटल है। बीघा अगर आप भी इसकी खेती करना चाहते हैं और ग्वार की खेती के बारे में सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ।

( 8 ) मूंग की खेती (Cultivation of Moong)

किसान भाइयों, मूंग की फसल एक दलहनी फसल है जो कम समय में तैयार हो जाती है, यह फसल उत्पादन के साथ-साथ मिट्टी को उपजाऊ बनाती है, आप इसे मार्च में बो सकते हैं, इसके अलावा आप इसे जून-जुलाई में भी कर सकते हैं।  आपको समय-समय पर बीमारियों का खास ख्याल रखना पड़ता है क्योंकि इसमें सबसे ज्यादा फंगस नजर आता है, इससे बचाव के लिए आप इसे हर हफ्ते स्प्रे कर सकते हैं ताकि फंगस न आए।  इसकी उपज 3 क्विंटल से लेकर 10 क्विंटल तक देखी जा सकती है, अगर आप मूंग की खेती के बारे में विस्तार से सारी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं गर्मियों में मूंग की खेती कैसे करें।

( 9 ) कपास की खेती (cotton cultivation)

किसान भाइयों, कपास की खेती गर्मी के मौसम में की जाती है, यह खेती अच्छी उपज देने वाली फसल है, लेकिन उपज के साथ-साथ इसमें मेहनत भी ज्यादा लगती है।इसकी खेती काली मिट्टी में दोमट मिटी में अच्छी होती है । नरमे की खेती पंजाब, महाराष्ट्र, वह कुछ राजस्थान के हिसे में सबसे ज्यादा बोई जाने वाली फसल है यह फसल अप्रेल से मई के बीच बोई जाती है कुछ स्थानों पर मानसून के समय बोई जाती है वह यह फसल 240 से 265 दिन की होती है इसकी औसत पैदावार 9 से 12 क्विटल तक होती है

कपास की खेती अलग-अलग मिट्टी में अलग-अलग कपास के बीज बोए जाते हैं क्योंकि जहां कम पानी लगाया जाता है और अधिक पानी के साथ कपास लगाया जाता है, अगर आपको अपनी मिट्टी और पानी के अनुसार कपास की फसल लगानी है।

 

FOLLOW ME
मैं नवराज बरुआ, में मुख्य रूप से इंदौर मध्यप्रदेश का निवासी हुं। और में Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मंडी मार्केट (Kisanguide.com) मूल रूप से मार्केट में चल रही ट्रेंडिंग खबरों को ठीक से समझाने और पाठकों को मंडी ख़बर, खेती किसानी की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।
3b007314ce2dbf44c150a2643ef016ce?s=250&d=mm&r=g
FOLLOW ME

Leave a Reply