You are currently viewing Gram Farming: चने की खेती है फायदे का सौदा, जानें आधुनिक खेती के टिप्स

Gram Farming: चने की खेती है फायदे का सौदा, जानें आधुनिक खेती के टिप्स

Gram Farming | चने की खेती कैसे होती हैं |

नमस्ते किसान भाईयों आज के पोस्ट में हम जानेंगे कि चने की खेती (Chane Ki Kheti) कैसे होती है इसके साथ ही जानेंगे चने की बुवाई, सिंचाई, कटाई, उपज के बारे मे!

चने को दालों का राजा कहा जाता है। इसकी हरी पत्तियां साग और हरा तथा सूखा दाना सब्जी व दाल बनाने में प्रयुक्त होता है। चने की दाल से अलग किया हुआ छिलका और भूसा पशु चाव से खाते हैं।

Gram Farming : चने की खेती है फायदे का सौदा, जानें आधुनिक खेती के टिप्स

बुवाई का समय

इसकी खेती 10 अक्टूबर से 5 नवम्बर तक करना उपयुक्त माना जाता है।

प्रमुख किस्म

जी. एन. जी. 1669, जी. एन. जी. 1499, जी. एन. जी. 1992, एल 550 आदि।

कहां होती है खेती

इसकी खेती मुख्यतः उत्तरप्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान तथा बिहार में की जाती है।

भूमि की तैयारी

  • खेती के लिए दोमट भूमि से मटियार जमीन उपयुक्त रहती है।
  • हल्की से भारी भूमि में भी इसकी खेती की जा सकती है।
  • खेती के लिए मिट्टी का पी-एच मान 6-7.5 उपयुक्त रहता है।
  • असिंचित अवस्था में मानसून शुरू होने के पूर्व गहरी जुताई कर लें।
  • एक जुताई मिट्टी पलटने वाले हल तथा 2 जुताई देसी हल से कर लें।
  • फिर पाटा चलाकर खेत को समतल कर लें।

बुआई की विधि

  • चने की बुआई कतारों में करें।
  • 7 से 10 सें.मी. गहराई पर बीज डालें।
  • कतार से कतार की दूरी 30 सें.मी. (देसी चने के लिए) तथा 45 सें.मी. (काबुली चने के लिए) रखें।

सिंचाई

  • फसल को कम पानी की आवश्यकता होती है।
  • पहली सिंचाई फूल आने के पूर्व अर्थात बोने के 45 दिनों बाद करें। दूसरी सिंचाई दाना भरने की अवस्था पर अर्थात बोने के 75 दिनों बाद कर दें।

कटाई

  • जब पौधे के अधिकतर भाग और फलियां लाल भूरी हो कर पक जाएं तो कटाई करें।
  • खलिहान की सफाई करें और फसल को धूप में कुछ दिनों तक सुखायें तथा गहाई करें।
  • भंडारण के लिए दानों में 12-14 प्रतिशत से अधिक नमी ना रखें।

उपज

  • उन्नत बीज होने पर 20 से 25 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज हो सकती है।

Published Date: 18/10/2022

English Summary: Gram farming is a profitable deal, know the tips of modern farming

FOLLOW ME
मैं नवराज बरुआ, में मुख्य रूप से इंदौर मध्यप्रदेश का निवासी हुं। और में Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मंडी मार्केट (Kisanguide.com) मूल रूप से मार्केट में चल रही ट्रेंडिंग खबरों को ठीक से समझाने और पाठकों को मंडी ख़बर, खेती किसानी की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।
3b007314ce2dbf44c150a2643ef016ce?s=250&d=mm&r=g
FOLLOW ME

Leave a Reply