You are currently viewing Akarkara Farming: अकरकरा खेती कर कई किसान लाभ कमा रहे हैं जानिए कैसे
Akarkara

Akarkara Farming: अकरकरा खेती कर कई किसान लाभ कमा रहे हैं जानिए कैसे

Akarkara Ki Kheti | Anacyclus Pyrethrum Farming in Hindi | Akarkara Benefits |

Akarkara Farming: अकरकरा खेती कर कई किसान लाभ कमा रहे हैं आज हम जानेंगे की अकरकरा पौधे की खेती कैसे होती और इससे क्या क्या लाभ होते है। अकरकरा खेती मुख्य रुप से औषधीय पौधे के लिए की जाती है अकरकरा पौधे की जड़ों का उपयोग कई प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। इस औषधीय पौधे का उपयोग तकरीबन 400 वर्षों से किया जा रहा है। 

अकरकरा का वानास्पतिक नाम Anacyclus pyrethrum (L.) Lag. (ऐनासाइक्लस पाइरेथम) है। अकरकरा को अंग्रेजी में Pellitory Root (पेल्लीटोरी रूट) कहते हैं। 

अकरकरा पौधे को भारत में अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है, जैसे-

Hindi : अकरकरा

Sanskrit : आकारकरभ, आकल्लक,

Gujarati : अकोरकरो (Akorkaro)

Telugu : अकरकरमु (Akarakaramu)

English : स्पैनिश पेल्लीटोरी (Spanish pellitory) ईत्यादी।

 

अकरकरा के औषधीय उपयोग

अकरकरा का उपयोग कई प्रकार के रोग को दूर करने के लिए किया जाता है जैसे सिर दर्द, मसूड़ों में दर्द, सूजन आदि दर्द में राहत मिलती है कई लोग इसका पाउडर बनाकर इससे मंजन करते हैं इसके सेवन से करने से मुंह की दुर्गंध और मसूड़ों की समस्या दूर हो जाती है।

इसके अलावा हकलाना, लकवा, अल्सर, मिर्गी, चेहरे के पक्षाघात, बुखार, स्पर्म काउन्ट बढ़ाने, बुद्धि का विकास, शरीर की शुन्यता और आलस्य जैसी असंख्य बीमारियों में ये काम आता है।

अकरकरा के औषधीय पौधे की खेती की जानकारी 

अकरकरा के औषधीय पौधे की खेती भारत के कुछ हिस्सों में इसकी खेती की जाती हैं बरसात की पहली फुहार पड़ते ही छोटे छोटे पौधे बनना शुरू हो जाते हैं अकरकरा की खेती कम श्रमसाध्य और अधिक लाभदायक उपज है।किसान भाई इसकी खेती कर खूब मुनाफा कमा रहे हैं। अकरकरा की खेती की अवधि 6 से 8 महीने की होती हैं 

जलवायु

अकरकरा के औषधीय पौधों को बढ़ने के लिए समशीतोष्ण जलवायु की आवश्यकता होती है।  भारत में इसकी खेती मुख्य रूप से मध्य भारत के राज्यों में की जाती है।  जिसमें उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा और महाराष्ट्र जैसे राज्य शामिल हैं।  इसके पौधों पर तेज गर्मी या अत्यधिक ठंड का असर नहीं दिखता है।  इसका पौधा जमीन की सतह पर गोलाकार रूप में फैलता है  जिस पर पत्तियाँ छोटी होती हैं।  इसकी खेती के लिए मिट्टी का पीएच.  मान सामान्य होना चाहिए।

English Summary : Many farmers are making profit by cultivating Akarkara, know how

Published Date: 20/06/2022 

Leave a Reply